Monday, March 5, 2018

कुछ ऐसा हुआ करता था हमारा वो दौर बोर्ड परीक्षाओं का


gopu-bisht-pahadi-dobalkhet
आज से उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा शुरू हो गई हैं, तो मन में कुछ यादें अपने दौर की आ गई ठहरी। आज से कुछ वर्षों पहले लगभग 2002-05 तक हाईस्कूल-इंटर की बोर्ड परीक्षा अपने गृह स्कूल में नहीं होने वाली ठहरी, परीक्षा सेंटर किसी और ही स्कूल में हुआ करता था। तो महाराज मेरे हमउम्र और मुझ से बड़े सभी को याद ही होगा ना कि किस तरह हम परीक्षा देने दूर सेंटरों में जाया करते थे, घर वाले 2-3 महीने पहले से ही रहने का ठौर ठिकाना ढूंढ लेते थे वहाँ, या तो किसी नजदीक के रिश्तेदार के वहाँ या दूर के रिश्तेदार के वहाँ या फिर किराए में। ज़्यादातर लोगों का ठिकाना रिश्तेदारी में ही होने वाला ठहरा। ग्रामीण इलाकों के सेंटर मुख्यतया बाजार वाले सेंटरों में हुआ करता था ! अब हम ठहरे ग्रामीण इलाकों के हाईस्कूल-इंटर कॉलेज में पढ़ने वाले तो...हमारा सेंटर था गंगोलीहाट जो हमारा मुख्य बाजार और तहशील ठहरा। मार्च में शुरू होने वाली परीक्षा अप्रैल मई तक भी चलने वाली हुई...पेपरों के बीच में 2 से 7-8 दिन का भी गैप हो जाने वाला हुआ कभी कभार। इसी बीच होली भी होने वाली हुई इन दिनों....तो होली की भी छुट्टी होने वाली ठहरी आगे पीछे।
gopu-bisht-pahadi-village-tunta

   इन दिनों बाज़ारों या गाँव घरों में रौनक सी आई रहने वाली ठहरी...जहां एक ही स्कूल के छात्र छात्रायेँ तो होते ही थे साथ ही अलग अलग स्कूलों के छात्र छात्राओं से भी मेल जोल हो जाने वाला हुआ, दोस्ती टाइप हो जाने वाली ठहरी या तो किराए पर रहने की वजह से या बाजार, गाँव घरों में रिशतेदारों में रहने की वजह से। अब जैसा कि हमारे पहाड़ गाँव में देखने को मिल ही जाता है बाजार हो या गाँव पानी के स्रोतों पर पानी लेने दूर दूर से पहुँचने वाले हुये....वहीं पर एक दूसरे से मिलन होने वाला हुआ, या फिर परीक्षा सेंटर पर परीक्षा हॉल में और आते जाते रास्तों पर।
gopu-bisht-pahadi-gangolihat
मैं भी अपने छोटे मामा लोगों के वहाँ पर था जब हाईस्कूल के पेपर थे मेरे। अब गंगोलीहाट में उस टाइम पे पानी की काफी समस्या थी कुछ एक जगहों पर हैंड पंप थे तो कुछ एक स्थानो पर वही प्राकृतिक जल स्रोत नौले धारे। हम लोग जान्धेवी के नौले से लाया करते थे वो भी सुबह 3:30 - 4 बजे। नौले धारों पर काफी भीड़ होने वाली ठहरी सुबह से शाम तक। किसी किसी के साथ परीक्षा के दिनों में उसके घर वाले आने वाले ठहरे खाना पीना बनाने के लिये तो कोई कोई दो चार लड़के या लड़कियां साथ में कमरा लेकर रहते थे तो काम भी बंट जाने वाला हुआ और कोई कोई खाना बाजार से खाने वाले हुये....बाँकी रिश्तेदारी वाले हुये हम जैसे जिन्हें बस अपनी परीक्षा में ही फोकस करना हुआ क्यूंकि बना बनाया सबकुछ मिल जाने वाला हुआ।
उसी समय वहीं नहा धोकर भी आने वाले हुये। क्यूंकी जैसे जैसे उजाला वैसे वैसे भीड़। हैंड पंप और
gopu-bisht-pahadi-gangolihat-market
पेपरों के दौरान चैत्र की अष्टमी भी आने वाली ठहरी जब गंगोलीहाट में कौतिक(मेला) लगने वाला ठहरा.....असली मेला ठहरा हो उन दिनों दिगौलाली। बाजार में काफी रौनक ठहरी उन दिनों। जब पेपरों में गैप होने वाला हुआ तो उस दिन पेपर देने के बाद घर को जाने की जल्दी होने वाली ठहरी छुट्टियों में। मेरे बाज्यू(पिताजी) मना करने वाले ठहरे घर आने को....कहते थे क्या है घर पढ़ाई करना वहीं, वहाँ खाना नहीं मिलता है क्या...? वगैरा वगैरा। फिर भी महाराज....5-6 दिन के गैप वाली छुट्टियों में तो चले ही जाने वाला हुआ घर, फिर भले ही थोड़ी डांठ ही क्यूँ न खानी पड़े॥

   बोर्ड पेपरों के दौरान काफी दोस्त बन जाने वाले हुये....नये नये, मोबाइल का तो उन दिनों चलन ठहरा ही नहीं मोबाईल फोन हमारे कॉलेज पहुँचने पर मिला ठहरा हमें इसलिये फिर कभी उनसे मुलाक़ात जैसे बाजार में, किसी गाँव में शादी में या कहीं और हुआ करती थी तो हाल चाल पुछने ही वाले ठहरे अच्छा लगने वाला हुआ।
परीक्षा समाप्ती के बाद अपने अपने घरों को लौट जाने वाले हुये, और फिर रिजल्ट का इंतजार करने वाले हुये। रिजल्ट जब आता था तो अखबार में लिस्ट आने वाली ठहरी....इन्टरनेट का हम जानने वाले ही नहीं ठहरे। 1.50रुपए वाला अखबार भी रिजल्ट के दिन 10 से 20 रूपये में खरीद कर लाये ठहरे बाबू। रिजल्ट कोई खास नहीं आया ठहरा फिर भी हाईस्कूल में पास हो गया करके बाज्यू बाजार से टॉफी, बिस्कुट, जलेबी लाये ठहरे और मोहल्ले में सबको बांटा ठहरा खुशी से।
gopu-bisht-pahadi-uttarakhand-bord-exam

   ऐसा ही था हो हमारा वो दौर....बोर्ड परीक्षाओं का मीठा सा अच्छा सा....हसीन। आज तो बस हाय तौबा, कंपटीशन ही कंपटीशन। आज न खुशी है न चैन....पर तब था खुशी चैन और शकुन।
खैर सभी परीक्षार्थियों को पुनः भौत भौत शुभकामनायें।  

पोस्ट सर्वाधिकार सुरक्षित by Gopu Bisht

1 comment:

  1. वाह गोपू दा... आपने तो पुरानी याद ताजा करा दी।
    बहुत मिस करता हूं वो दिन। क्या दिन थे वो। अब तो... बस ज़िन्दगी गुजर रही है।

    ReplyDelete

Popular Posts