Tuesday, February 18, 2014

बुरांस का फूल (कफ़ुवा)

uttarakhand burans flowerबुरांस का फूल अपनी सुंदरता के साथ साथ बहुत ही गुणकारी औषधी के लिये भी प्रसिद्ध है। यह उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में देखने को मिलता है।

प्राय ये फाल्गुन-चैत यानि कि फरवरी-मार्च में खिलना प्रारम्भ होता है। लेकिन अब ये ग्लोबल वार्मिंग की वजह से समय से पहले ही खिलता हुआ दिखने लगता है।

 इसका पेड़ उत्तराखंड के राज्य बृक्ष  की श्रेणी में रखा गया है। बसंत के आगमन से ही इसके खिलने पर यहाँ की हंसी वादियां और भी मनोहारी लगने लगती हैं। एक हर जगह अलग ही तरह का सुंदर मन को लुभाने वाला वातावरण बन जाता है।
बुरांस का फूल
 "कफ़ुवा खिल्ण बैगे ऊंचा-नीचा 'धुर डाना' का डान्यू मा"।
बुरांस का यह फूल बहुत सुंदर होता है। इस फूल का उपयोग कई प्रकार के कोस्मैटीक चीजों में भी किया जाता है।
बुरांस के फूल का ज़्यादातर उपयोग इसके जूस बनाने में किया जाता है जो बहुत ही स्वादिस्ट और उपयोगी होता है।

बुरांस का जूस गर्मियों में काफी राहत प्रदान करता है। लोग बुरांस के इन फूलों को इकट्ठा कर के जूस बनवाते हैं। 

दोस्तों हमारा फेस्बूक पेज Like करना ना भूलें। और साथ ही अपने विचार अवस्य व्यक्त करें।

हमारा फेस्बूक पेज: www.facebook.com/MayarPahad
हमारा विडियो चैनल: http://goo.gl/tjuOvU
इस विडियो चैनल को भी Subscribe जरूर करें।

धन्यवाद !

No comments:

Post a Comment

Popular Posts