Sunday, March 24, 2013

जल कैसे भरू जमुना गहरी

दोस्तो इस होली के पावन अवसर पर आप लोगो के साथ एक और होली प्रस्तुत करना चाहूँगा । ये एक खड़ी होली है जो खूब चर्चित है हमारे पहाड़ में । आप सभी लोगो को इस होली गीत के साथ होली की ढेर सारी सुभकामनए..... होली है
जल कैसे भरू जमुना गहरी

जल कैसे भरू जमुना गहरी

जल कैसे भरू जमुना गहरी॥2॥
जल कैसे भरू जमुना गहरी॥2॥
ठाडी भरू राजा राम जी देखे
हे ठाडी भरू राजा राम जी देखे
बैठी भरू भीजे चुनरी…जल कैसे भरू जमुना गहरी
बैठी भरू भीजे चुनरी…जल कैसे भरू जमुना गहरी
जल कैसे भारू जमुना गहरी॥2॥
धीरे चलू घर सास है बुढ़ी
हे धीरे चलू घर सास है बुढ़ी
धमकि चलु छलके गगरी….जल कैसे भरू जमुना गहरी
धमकि चलु छलके गगरी….जल कैसे भरू जमुना गहरी
जल कैसे भरू जमुना गहरी॥2॥
गोदी पर बालक सिर पर गागर
हे गोदी पर बालक सिर पर गागर
पर्वत से उतरी गोरी…जल कैसे भरू जमुना गहरी
पर्वत से उतरी गोरी…जल कैसे भरू जमुना गहरी
जल कैसे भरू जमुना गहरी॥2॥...... समाप्त ।

'जल कैसे भरू जमुना गहरी' विडियो भी देखें। 
आप सब को होली की ढेर सारी सुभकमनाए !

दोस्तो अपनी प्यारी जन्मभूमि हमरो पहाड़ – उत्तरांचल का Facebook पेज Like करना न भूले ।
ठेठ पहाड़ी यूट्यूब विडियो चैनल: http://goo.gl/tjuOvU
हमारी वैब साइट: www.gopubisht.com

No comments:

Post a Comment

Popular Posts